Advertisements

जाने पीरियड के कितने दिन बाद प्रेगनेंसी नहीं होती है

Advertisements

हर शादीशुदा महिला के मन में यह सवाल जरुर होता है की आखिर पीरियड के कितने दिन बाद प्रेगनेंसी नहीं होती है? तो आपको इस आर्टिकल में इस सवाल का जवाज जरुर मिल जायेगा.

आजकल के युग में हर couple कोई न कोई business या job करता है जिसकी वजह से जल्दी बच्चा नहीं चाहते है इस लिए वो कोई न कोई गर्भनिरोधक साधनों का इस्तमाल करते है.

महिला के लिए हर बार गर्भनिरोधक गोलियों का सेवन करना सही नहीं रहता है. इस लिए उनके लिए यह जानना जरूरी होता है की आखिर उनके पीरियड के कितने दिन बाद प्रेगनेंसी नहीं होती है.

पीरियड के कितने दिन बाद प्रेगनेंसी नहीं होती है

अब सबसे पहले तो यह जान लेते है की,

Advertisements

पीरियड के कितने दिन बाद प्रेगनेंसी नहीं होती है?

महिला के पीरियड शुरू होने के 10 वे दिन से 18 दिन तक प्रेगनेंसी रहने को संभावना अधिक होती है. यानि की कोई भी महिला अपने पीरियड शुरू होने के 8 वे दिन तक और 18 दिन के बाद दुबारा से पीरियड आने तक कभी भी सबंध बना सकती है. क्युकी उस वक्त pregnancy रुकने के chances बहुत कम होते है.

आपकी गर्भधारण करने की सबसे ज्यादा संभावना ओवुलेशन के समय में ही होती है. ओवुलेशन दरमियान अगर स्पर्म (शुक्राणु) अंडे से मिलते है तो गर्भधारण हो जाता है. ovulation (ओवुलेशन) के समय के अलावा कोई भी समय में गर्भधारण नहीं होता है. अगर शुक्राणु फेलोपियन ट्यूब में 5-6 दिनों से मौजूद है. तब आपका अंडा रिलीज़ होता है तो fertilization हो सकता है.

इस लिए पीरियड के बाद से ओवुलेशन होने के 1 हप्ता पहले और ओवुलेशन होने के 2 दिन के बाद वापिस पीरियड आने तक प्रेगनेंसी नहीं होती है.

हलाकि, असुरक्षित सबंध हमेशा ही प्रेगनेंसी को रोक सकता है. इस लिए अगर आप अभी गर्भधारण नहीं चाहते है तो हमेशा गर्भनिरोधक साधनों का इस्तमाल करे.

अब यह जान लेते है की,

पीरियड के कितने दिन बाद प्रेगनेंसी होती है?

कोई भी महिला यह जानना चाहती है की पीरियड के बाद कब गर्भ ठहरता है यानि की माहवारी के कितने दिन बाद गर्भ ठहरता है. तो महिला के लिए सबसे महत्वपूर्ण होता है उनका रेगुलर पीरियड्स होना. अगर कोई महिला माँ बनना चाहती है. तो उनके लिए यह जानना अति आवश्यक हो जाता है की, पीरियड (menstrual cycle) के बाद महीने के वो कोनसे दिन होते है जिसमे उनकी गर्भधारण की संभावना सबसे ज्यादा होती है. इन संभावित दिनों को ओवुलेशन पीरियड (ovulation meaning in hindi) कहा जाता है.

आमतौर पर महिलाओ का पीरियड 28 दिन का होता है.

इस पीरियड साइकिल (menstrual cycle) में कुछ दिन ऐसे होते है जिसमे ovulation period आता है.

पीरियड्स खत्म होने के बाद के 10 से 16 वे दिन का समय ओवुलेशन पीरियड होता है.

महिला का अंडा जब ओवरी में से रिलीज़ होकर फेलोपियन ट्यूब में जाता है. तो वह पुरुष के स्पर्म से मिलकर उनका सयोंजन होता है. जिनको मेडिकल भाषा में फर्टिलाइजेशन (fertilization) कहते है.

फेलोपियन ट्यूब में अंडा 24 घंटे तक और स्पर्म 5-7 दिनों तक जीवित रहते है. उस वक्त अगर अंडा और स्पर्म को मिलकर निषेचित होना होता है. अगर दोनों मिलकर निषेचित नहीं हो पाते तो अंडा फुटकर (नष्ट होकर) bleeding के रूप में योनि से बहार आ जाता है। जिन्हे हम periods कहते है.

जातादातर लोगो को लगता है की पीरियड्स के दौरान सेक्स करने से महिला को गर्भ ठहर जाता है. यह संपूर्ण सच नहीं है. आपको (प्रेगनेंसी कंसीव) करनी है तो आप निचे दिए समय पे सेक्स करेंगे तो आप गर्भवती हो सकती है.

  • firstly – ओवुलेशन होने से पहले के 4 या 5 दिन
  • secondly- ओवुलेशन के समय पे
  • thirdly – ओवुलेशन के दौरान और 1 दिन बाद


प्रेगनेंसी कितने दिन में पता चलती है

गर्भधारण (प्रेगनेंसी) के conform की अगर बात की जाये तो प्रेगनेंसी कंसीव हुई है या नहीं इनका सचोट परिणाम आपको आपके पीरियड मिस होने के बाद ही मिल सकता है.

इसके अलावा अगर आपको पीरियड मिस होने से पहले प्रेग्नेंट होने के लक्षण दिखाई दे रहे है. तो आप अपने पीरियड मिस होने से पहले ही अपनी प्रेगनेंसी का पता लगा सकते हो.

आप इन्हे प्रेगनेंसी के शुरुआती लक्षण भी कह सकते हो. पर यह लक्षण ओवुलेशन के लक्षणों से थोड़े अलग होते है. गर्भधारण के बाद पाचनक्रिया मंद हो सकती है जिस से आपको पाचन से लगती समस्या जैसे की गैस, कब्ज, ब्लोटिंग की शिकायत रहती है.

ये early pregnancy symptoms (प्रेगनेंसी के शुरुआती लक्षण) होते है. कई महिलाओ को गर्भधारण के तुरंत बाद ही पाचन और कब्ज की समस्या होने लगती है जिस से उनको प्रेगनेंसी टेस्ट करने से पहले ही गर्भधारण का पता चल जाता है.

प्रेग्नेंट होने के लक्षण – pregnancy symptoms in hindi

तो चलिए अब ये जान लेते है की प्रेग्नेंट होने के लक्षण क्या क्या होते है.

1. पीरियड का मिस होना

2. हल्का सा रक्तस्त्राव होना

3. मॉर्निंग सिकनेस होना     

4. मूड स्विंग होना   

5. थकान महसूस करना    

6. उलटी होना     

7. शरीर का तापमान बढ़ जाना     

8. स्तन और निप्पल में दर्द होना    

9. बार बार पेशाब आना  

10. गंध में बदलाव  

11. खाने की इच्छा ने बदलाव  

12. पाचन और कब्ज की समस्या 

अगर आपको अपने पीरियड मिस होने से पहले और सेक्स करने के कुछ दिन बाद ऊपर दिए गए लक्षण दिखाई दे रहे है तो हो सकता है की आप प्रेग्नेंट हो.

प्रेगनेंसी का सही पता आपको प्रेगनेंसी टेस्ट करने के बाद ही मिलता है.

आपको अपने पीरियड के मिस होने के बाद प्रेगनेंसी टेस्ट करने से या खून की जाँच करने से पता चलेगा.

प्रेगनेंसी टेस्ट कब करे

अगर महिला regular period में होती है और अगर उनका period miss हो जाये तो ये संकेत देता है की शायद वो महिला गर्भवती है। तो अगर महिला का पीरियड मिस होता है तो उनके 1 हप्ते के बाद प्रेगनेंसी टेस्ट करना चाहिए. क्युकी इस समय हमारे शरीर में HCG की मात्रा ज्यादा होती है और यूरिन के जरिये प्रेगनेंसी टेस्ट किया जाता है और हमें प्रेगनेंसी है या नहीं ये पता चलता है.

अगर आप इस से भी पहले प्रेगनेंसी टेस्ट करना चाहती है तो आप सेक्स के कम से कम 2 हप्ते के बाद प्रेगनेंसी टेस्ट कर सकती है और आपको सुबह की यूरिन से ही प्रेगनेंसी टेस्ट करना चाहिए क्युकी सुबह के टाइम में यूरिन में HCG की मात्रा ज्यादा होती है.

महिला को अपने यूरिन के जरिये घर पे ही प्रेगनेंसी टेस्ट किट का सही रिजल्ट मिल जायेगा इसके लिए उनको खून की जाँच करवाने की जरूरत नहीं होती है.

प्रेगनेंसी टेस्ट किट क्या है – what is pregnancy test kit?

प्रेगनेंसी किट एक तरह की pregnancy को conform करने का साधन है. जिसकी मदद से आप घर बैठे बिना डॉक्टर के अपनी pregnancy का पता लगा सकते हो. इस किट में आपको दी चिप पे अपने पेशाब (urine) की कुछ बुँदे डालनी होती है और यह आपके HCG hormones की जाँच करती है. जिससे आपको घर पे ही प्रेगनेंसी का पता लग सकता है.

प्रेगनेंसी टेस्ट किट कैसे काम करता है

ज्यादातर प्रेगनेंसी टेस्ट किट में टेस्ट करने के लिए महिला के यूरिन (पेशाब) में मौजूद गर्भावस्था हॉर्मोन, ह्यूमन कोरियोनिक गोनाडोट्रॉफिन (HCG) की मात्रा को मापा जाता है।

इसके लिए आपको प्रेगनेंसी टेस्ट करने के लिए अपने पीरियड मिस होने के 1 हप्ते बाद सुबह के यूरिन की बुँदे किट की स्ट्रिप पर डालनी होती है. यह स्ट्रिप यूरिन में मौजूद HCG के अनुसार अपना कलर बदल देती है जिससे आपको रिजल्ट समझने में सहायता मिलती है.

लगभग केसो में यह किट 99 % सही रिजल्ट ही बताती है पर मेने जैसे पहले भी कहा वैसे की यह निर्भर करता है की आप किस वक्त और कोनसे दिन पे प्रेगनेंसी टेस्ट कर रहे हो.

पीरियड मिस होने के कितने दिन बाद प्रेगनेंसी टेस्ट करे

अगर महिला regular period में होती है और अगर उनका period miss हो जाये तो ये संकेत देता है की शायद वो महिला गर्भवती है. तो अगर महिला का पीरियड मिस होता है तो उनके 1 हप्ते के बाद प्रेगनेंसी टेस्ट करना चाहिए. क्युकी पीरियड मिस होने के 7 दिन बाद प्रेगनेंसी के लक्षण दिखाई देते है.

पीरियड मिस होने से पहले प्रेगनेंसी टेस्ट कब करे

अगर महिला को पीरियड मिस होने से पहले कुछ लक्षण दिखाई देने लगते है जैसे की,  

  • वोमिटिंग होना
  • जी मचलाना
  • अजीब सी गंध आना
  • मूड स्विंग होना
  • पीरियड की डेट नजदीक आने पर भी पीरियड ना होना
  • पेडू में हल्का दर्द होना

तो वो अपना प्रेगनेंसी टेस्ट कर सकती है.

तो यह थी जानकारी पीरियड के कितने दिन बाद प्रेगनेंसी नहीं होती है और पीरियड के कितने दिन बाद प्रेगनेंसी होती है, प्रेग्नेंट होने के लक्षण, प्रेगनेंसी टेस्ट किट क्या है और प्रेगनेंसी टेस्ट किट कैसे काम करता है और पीरियड मिस होने से पहले प्रेगनेंसी टेस्ट कब करे के बारे में.

उम्मीद है आपको यह आर्टिकल से सही जानकरी मिली होगी.

ऐसे ही और आर्टिकल को भी पढ़े:

अंडा फटने के बाद गर्भावस्था के लक्षण

घर पर ऐसे करे नमक से प्रेगनेंसी टेस्ट

ऐसे करे IVF के बाद प्रेगनेंसी टेस्ट

Advertisements

Leave a Comment