Advertisements

क्या होते है समय से पहले पीरियड बंद होने का कारण और लक्षण जाने

Advertisements

Menopause (मेनोपॉज) यानी पीरियड का बंद होना। हर एक महिला में मेनोपॉज (पीरियड का बंद होना) होता ही है। क्युकी हर महिला को अपने जीवनकाल में मेनोपॉज से गुजरना ही पड़ता है। जैसे महिला की उम्र 45 से ज्यादा होती है उनको menopause होना शुरू हो जाता है। पर अभी के समय की lifestyle को अनुसरते महिलाओ में प्री मेनोपॉज की समस्या होने लगी है और अगर महिला को समय से पहले पीरियड बंद होने लगे तो ? आखिर क्या होते है समय से पहले पीरियड बंद होने का कारण और उनके लक्षण?

समय से पहले पीरियड बंद होने का कारण और लक्षण

समान्यतर पर 40-50 की आयु तक की महिलाओ को मेनोपॉज हो जाता है। और उनको मेनोपोज़ के बाद पीरियड बंद होने के लक्षण दिखाई देते है। पर जिस महिलाओ को 40 की आयु से पहले मेनोपॉज के लक्षण दिखाई देते है उनको प्री मेनोपॉज कहते है। और अगर महिला का प्री मेनोपॉज होता है तो ये उनकी health के लिए बिलकुल भी अच्छा नहीं होता है। प्री मेनोपॉज होने का कारण कई बार कीमोथेरेपी, रेडिएशन थेरेपी, जेनेटिकल प्रॉब्लम,टीबी भी हो सकता है।

प्री मेनोपॉज का कैसे पता लगता है

अगर आपकी उम्र 40 से कम है और आपको मेनोपोज यानि की पीरियड बंद होने के लक्षण दिखे तो डॉक्टर से consult करे। डॉक्टर कुछ blood test करवाते है जिस से वो हमारे शरीर में एस्ट्रोजन (estrogen) और FSH test करते है। जिस से हमारे शरीर में एस्ट्रोजन की मात्रा को नापा जाता है और ovary में eggs बन रहे है है की नहीं उनका पता लगया जाता है। अगर किसी महिला का FSH Level निर्धारित सीमा तक नहीं होता है तो वो naturally (कुदरती) तरीके से गर्भधारण नहीं कर सकती है।

समय से पहले पीरियड बंद होने का कारण

ओवरी में सर्जरी, रेडिएशन, कीमोथैरेपी, alcohol, smoking और आनुवांशिकता को इसके मुख्य कारण माना जाता है। मेनोपॉज के लक्षण 4 से 5 पहले ही आने लगते हैं और उस वक्त महिलाओं में चिड़चिड़ाहट, मूड स्विंग, अनियमित माहवारी, vaginal dryness जैसे लक्षण दीखते हैं।
 

समय से पहले पीरियड बंद होने के लक्षण – perimenopause के लक्षण

अनियमित पीरियड्स

जिस महिला का मेनोपोज़ नजदीक आता जाता है उनका पीरियड नियमित रूप से होना बंद हो जाता है उनके पीरियड का समय और महीना निश्चित नहीं रहता है और हर महीने महिला का माहवारी नहीं होता है। कई महिलाओ को 40 की उम्र के बाद पीरियड का जल्दी आना और लेट आना शुरू हो जाता है और पीरियड के दौरान ज्यादा और कम मात्रा में bleeding होती है। और पीरियड में होने वाली अनियमितता के कारण ovary में egg का बनना भी कम हो जाता है और धीरे धीरे ovaries निष्क्रिय हो जाती है। और पीरियड रुक जाता है।

अधिक गर्मी लगना

मेनोपोज़ नजदीक आने से महिला के शरीर में गर्मी का प्रमाण बढ़ जाता है बिना किसी कारण से महिलाओ को गर्मी लगने लगती है क्युकी उनके शरीर में hormonal changes होते है। और महिला का पीरियड भी समय पे नहीं आता है तो उनके शरीर से पीरियड के दौरान गर्मी निकल नहीं पाती है तो उनको ज्यादा गर्मी महसूस होती है। जिनके कारण उनको कई बार गर्मी तो कई बार अचानक से ठंडी लगने लगती है।

सेक्स की इच्छा खत्म होना

कई महिलाओं में मेनोपॉज के दौरान सेक्स की इच्छा खत्म हो जाती है या बहुत ही कम हो जाती है। उन्हें शारीरिक संबंध बनाने के दौरान दर्द व तकलीफ होती है।

पेशाब पर नियंत्रण न होना

मेनोपोज़ नजदीक आते ही महिला के ब्लेडर (balder) पर से नियंत्रण छूट जाता है। और महिलाओ में पेशाब रोक पाने की क्षमता कम हो जाती है और पहले से अधिक बार पेशाब जाना पड सकता है।

मूड स्विंग होना

जब महिला का मेनोपोज़ नजदीक आता है तब उनके शरीर में hormonal balance बिखर जाता है और उनके कारण महिलाओ के बार बार मुड स्विंग होते है। मेनोपोज़ के दौरान महिला में भावनात्मक लागणी बढ़ जाती है और इनके कारण उनको बार बार गुस्सा, रोना, तनाव, चिढ़ना, उदासी ये सब मूड स्विंग होते है।

प्री मेनोपॉज महिला की सेहत पर बुरा असर

समय से पहले पीरियड बंद होने से महिलाओ की सेहत पर बुरा असर पड़ता है। प्री मेनोपॉज से महिला की हड्डिया कमजोर हो जाती है। इसके साथ ही ऑस्टियोपोरोसिस, हाई बीपी और हार्ट संबन्धी समस्याओं का खतरा बढ़ जाता है। क्युकी पीरियड बंद होने के बाद महिला के शरीर में एस्ट्रोजन और प्रोजेस्ट्रोन नामक hormones बनना बंद हो जाते है जो महिला की हड्डियों को और हार्ट को मजबूत बनाते है।

कैसे निपटे प्री मेनोपॉज के लक्षणों से

अगर आप समय से पहले मेनोपॉज का शिकार हो रही है तो उसे रोकने के लिए निचे दी गयी tips को आप follow करके  प्री मेनोपॉज को काफी हद तक कम कर सकती है। 
 
अगर आपका प्री मेनोपॉज आ गया है और आप प्रेगनेंसी कंसीव करना चाहती है तो आपको donor egg यानि की किसी और महिला के अंडाणु लेकर IVF (In vitro fertilization) की मदद से गर्भधारण किया जा सकता है।

स्वस्थ आहार ले

अगर आपको एक healthy life जिनी है तो स्वस्थ आहार जरूर ले। क्युकी स्वस्थ आहार से आप मानसिक और शारीरक रूप से बहेतर बनते हो। और यदि आपको समय से पहले पीरियड बंद होने के लक्षण दिखाई दे रहे है तो अपने डाइट में कैल्शियम और विटामिन डी युक्त भोजन को शामिल करिये। क्युकी प्री मेनोपॉज से महिला की हड्डिया कमजोर हो जाती है। इसके साथ ही ऑस्टियोपोरोसिस खतरा बढ़ जाता है।

गर्म तासीर वाली चीजों से परहेज रखे

अपनी डाइट में गर्म तासीर वाली चीजे मत खाइये क्युकी गर्म तासीर वाली चीजे आपके शरीर की heat को बढ़ावा देता है और मेनोपॉज के दरमियान शरीर में ज्यादा गर्मी पैदा होती है और गर्म तासीर वाली चीजे हीट फलेश को बढ़ावा देता है। अगर गर्मी और बढ़ जाती है तो doctor आपको एस्ट्रोजन थेरेपी भी दे सकते है। 


नियमित व्यायाम और योग करे

नियमित व्यायाम और योग करने से आपके शरीर में hormonal balance बना रहेगा और आप तनाव से भी मुक्त रह सकोगे। और अक्सर मेनोपॉज को जल्दी आने से रोकता है। और मेनोपॉज के बाद वजन भी बढ़ जाता है जिसको आप नियमित व्यायाम और योग से नियंत्रित कर सकते है।
 

खूब पानी पिए

मेनोपॉज आपकी त्वचा, बालों और नाखूनों को रूखा बना सकता है। इससे बचने के लिए खूब सारा पानी और अन्य तरल पदार्थ पिएं।
 
तो यह थी जानकरी की समय से पहले पीरियड बंद होने का कारण और लक्षण क्या है और कैसे निपटे प्री मेनोपॉज से के बारे में। उम्मीद है की आपको यह जानकारी से मदद मिली होगी।
 
Happy Parenting .
 

Advertisements

Leave a Comment